Saturday, June 23, 2007

नन्ही सचाई



एक डॉक्टर मित्र हमारे
स्वर्ग सिधारे।
असमय मर गए,
सांत्वना देने
हम उनके घर गए।

उनकी नन्ही-सी बिटिया
भोली-नादान थी,
जीवन-मृत्यु से
अनजान थी।
हमेशा की तरह
द्वार पर आई,
देखकर मुस्कुराई।
उसकी नन्ही सचाई
दिल को लगी बेधने,

बोली-
अंकल!
भगवान जी बीमार हैं न
पापा गए हैं देखने।

29 comments:

annapurna said...

Ek bahut hi jaane-pahchaane vaakya se itni sunder Rachana.....

Adbhut

Rajesh Roshan said...

जी यही है नन्ही सच्चाई, भावपूर्ण कविता

Pratik said...

नन्ही सच्चाई... मासूम सच्चाई... एक मात्र सच्ची सच्चाई

sajeev sarathie said...

hameshaa ka tarah lajawaab rachna

SANJAY said...

सीधे दिल पर असर कर गई यह नन्ही सचाई.

Rachna Singh said...

aap ki kavitayon per comment nahin likh saktee per chahtee hoon aap meri kavitoyon per kabhie kuch likhae
thanks
http://mypoemsmyemotions.blogspot.com/

Udan Tashtari said...

मासूम की वाणी-दिल को छू गई.

Divine India said...

छू लेने वाली कविता…।
मानवतावाद के विखरे हुए उद्देश्य को अच्छी तरह प्रकट किया है।

Sanjeet Tripathi said...

नही मालूम था कि बौड़म जी ऐसी दिल को छू लेने वाली कविताएं भी लिखते हैं!

Neelima said...

बच्चे का मृत्यु के कारणों से साक्षात्कार बच्चे की ही भाषा में मार्मिक बन पडी है कविता

विकास कुमार said...

मार्मिक कविता

tanha kavi said...

अशोक जी , इस बार दिल को छू लिया आपने। इस बार कोई चकल्लस नहीं हुई।

राजीव रंजन प्रसाद said...

बोली-
अंकल!
भगवान जी बीमार हैं न
पापा गए हैं देखने।

इस पंक्ति के बाद कविता आसमा छू लेती है और हृदय के भीतर बहुत गहरे महसूस होती है। बहुत ही सुन्दर रचना पढवाने का आभार।

*** राजीव रंजन प्रसाद

vinod_parashar1961 said...

बच्चे निश्छल होते हॆ-उनकी निश्छलता को भावपूर्ण अभिव्यक्ती देती सुंदर रचना.कई सालों के बाद आपकी नयी कविता पढने को मिली हॆ.

Kuldip said...

चक्रधरजी आपको ब्लोग्साईट पर देख कर एक सुखद अनुभव हुआ। अक्सर यहां अनछपे कवि ही दिखते हैं। एक जाना पहचाना हस्ताक्षर को यहां देख कर बहुत खुशी हुई।

kuldip said...

अनुभव हुआ। अक्सर यहां अनछपे कवि ही दिखते हैं। एक जाना पहचाना हस्ताक्षर को यहां देख कर बहुत खुशी हुई।

शब्द-सृष्टी said...

हमारी आँख के आँसू भी कर लीजै स्वीकार...काश हम सब ऐसे ही बच्चे हो जाएं...कुछ पल मनुष्य बन जाएँ.

Anupama Chauhan said...

Baat wahi hai shabd wahi hain...aapki kalam se utre to jaan bhar gai....

Bhupendra Raghav said...

गहरी वेदना, दिल तक समाई है,
शब्दों का श्रंग ले गहरी गहराई है
हमारी समझ में बस एक बात आई है,
"नन्ही सच्चाई ", नन्ही नहीं...
वरन एक बहुत बडी सच्चाई है,

सुबीर संवाद सेवा said...

अच्‍छी हेगी अशोक जी ये कविता
http://subeerin.blogspot.com

सुबीर संवाद सेवा said...

अच्‍छी हेगी अशोक जी आपकी ये कविता भोत भोत अच्‍छी हेगी
पंकज सुबीर सीहोर

Poonam Agrawal said...

Jeevan kee sachchai hai ye.kitnee asani se parichay karaa diya apne.Nanhi jubaan ne jis tarah kaha .shabd gahrai tak choo gaye.bahoot achchi rachnaa hai.

Devi Nangrani said...

चक्रधर जी
खूब अछूती रचना के अविध्कार के लिये बधाई

असुवन के श्रधाँजली उनके नाम
जो मरकर भी नहीं मरे
बस! जिंदा दिलों की वो
धड़कन बन कर धड़कते रहे.

देवी नागरानी

मीनाक्षी said...

नमस्कार अशोक जी, टी.वी पर तो आप का कार्यक्र्म देखते ही हैं. सौभाग्य कि यहाँ पढ़ने को भी मिल रहा है...

नन्ही सच्चाई सच मे मर्म को गहरे तक बेध गई है.

Vaishali said...

बोली-
अंकल!
भगवान जी बीमार हैं न
पापा गए हैं देखने।


mere me itna sahas nahin hai ki aapki kisi rachna per koi bhi abhivaykti vyakt karun.....bas dil ko chho gai ye lines.........aisa sirf chakrdhar saab hi likh sakte hain............shat shat naman aapko.....

vineet said...

compossed very heart toucing poetry

sexy11 said...

情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣用品,情趣用品,情趣,情趣,A片,A片,情色,A片,A片,情色,A片,A片,情趣用品,A片,情趣用品,A片,情趣用品,a片,情趣用品

A片,A片,AV女優,色情,成人,做愛,情色,AIO,視訊聊天室,SEX,聊天室,自拍,AV,情色,成人,情色,aio,sex,成人,情色

免費A片,美女視訊,情色交友,免費AV,色情網站,辣妹視訊,美女交友,色情影片,成人影片,成人網站,H漫,18成人,成人圖片,成人漫畫,情色網,日本A片,免費A片下載,性愛

情色文學,色情A片,A片下載,色情遊戲,色情影片,色情聊天室,情色電影,免費視訊,免費視訊聊天,免費視訊聊天室,一葉情貼圖片區,情色視訊,免費成人影片,視訊交友,視訊聊天,言情小說,愛情小說,AV片,A漫,AVDVD,情色論壇,視訊美女,AV成人網,成人交友,成人電影,成人貼圖,成人小說,成人文章,成人圖片區,成人遊戲,愛情公寓,情色貼圖,色情小說,情色小說,成人論壇


免費A片,日本A片,A片下載,線上A片,成人電影,嘟嘟成人網,成人貼圖,成人交友,成人圖片,18成人,成人小說,成人圖片區,微風成人區,成人文章,成人影城

A片,A片,A片下載,做愛,成人電影,.18成人,日本A片,情色小說,情色電影,成人影城,自拍,情色論壇,成人論壇,情色貼圖,情色,免費A片,成人,成人網站,成人圖片,AV女優,成人光碟,色情,色情影片,免費A片下載,SEX,AV,色情網站,本土自拍,性愛,成人影片,情色文學,成人文章,成人圖片區,成人貼圖

Ankush Agrawal said...

chakradharji, aapki kavitao ke jaadu se to main kabse prabhavit hoon, abhi aapka mere college bhi aana hua parantu main aapse milne ka saubhagya prapt nahi kar saka....
aur aapki rachnao ki taarif karna to suraj ko deepak dikhane ke tulya hai...

neha said...

Very nice and touching!